40 दिनों में 1000 करोड़ रुपए की बिकेंगी चौकीदार टी-शर्ट और कैप

0
128





नई दिल्ली (संतोष कुमार)/मुंबई (विनोद यादव).चुनावी मौसम में चौकीदार शब्द चर्चा में है। सरकार इसे “मैं भी चौकीदार’ कैंपेन का रूप दे रही है, वहीं विपक्षी राहुल गांधी ‘चौकीदार चोर है’ का नारा दे रहे हैं। लेकिन इन सबके बीच इसका बिजनेस कर रहे दुकानदारों की चांदी हो गई है। देशभर में चौकीदार स्लोगन की हजारों टी-शर्ट और कैप रोजाना बिक रही हैं।

द क्लोथिंग मैन्युफैक्चरिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीएमएआई) ने भास्कर को बताया कि चुनाव के डेढ़ महीने में करीब 1000 करोड़ रुपए की चौकीदार टीशर्ट बिकेंगी। यानी औसत दाम 250 रुपए प्रति टी-शर्ट मानें तो करीब 4 करोड़ टी-शर्ट बिकेंगी। वे कहते हैं हर साल गर्मी में टी-शर्ट की मांग बढ़ती है, परंतु इस बार चुनाव होने से मांग दोगुनी से अधिक बढ़ी है। इसमें भी 70 फीसदी मांग “मैं भी चौकीदार’ टी-शर्ट की है।

2014 में चायवाला कैंपेन को सबसे पहले शुरू करने वाले भाजपा के दिल्ली प्रदेश प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी “देश का चौकीदार’ अभियान शुरू कर टी-शर्ट बांटना शुरू किया था। बग्गा बताते हैं, जब राहुल ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया तो मैंने अपनी तरफ से टी-शर्ट बनवाए, जिस पर मोदी की तस्वीर के साथ देश का चौकीदार स्लोगन लिखा है। इस टी-शर्ट को मैं रात 11 बजे से 3 बजे तक सोसायटी, मॉल, अस्पताल जैसी जगहों पर गार्ड को देता हूं। मैं उन्हें कहता कि आप लोग सोसायटी की रक्षा करते हो और मोदी देश के चौकीदार हैं। बाद में एक वेबसाइट (टीशर्टभैया डॉट कॉम) बनाकर उसे ऑनलाइन बेचना भी शुरू कर दिया।

मोदी के 16 मार्च को लाॅन्च मैं भी चौकीदार अभियान से पहले ही उन्हें 100-150 टी-शर्ट के ऑर्डर रोजाना मिलते थे। यह आंकड़ा अब 2500 के करीब हो गया है। सात रंगों में उपलब्ध इन टी-शर्ट की कीमत 295 रुपए है, जिसमें शिपिंग फ्री है। उन्हें करीब 10 लाख रुपए के ऑर्डर मिल चुके हैं। बग्गा कहते हैं कि यह उनका बिजनेस नहीं है, बल्कि ऑनलाइन बिक्री से जो रकम उन्हें फायदे के रूप में मिलती है, उससे वे असली चौकीदारों को मुफ्त में टी-शर्ट देते हैं। शुरुआत में एक महीने तक बग्गा ने 3 हजार चौकीदारों और 2 हजार के करीब रिक्शाचालकों, रेहड़ी, पटरी वालों को मुफ्त में टी-शर्ट बांटी।

मुंबई के मैन्युफैक्चरर सुरजीत दुग्गल कहते हैं कि यह इंडस्ट्री बहुत बड़ी है। मेरा भी अंदाजा है कि पूरे देश में करीब 10 करोड़ से ज्यादा “मैं भी चौकीदार” के टी-शर्ट बनेंगे। “मैं भी चौकीदार” के मैंने जो टी-शर्ट बनाए हैं,उस एक टी-शर्ट की कीमत करीब 140 रुपए प्रिंटिंग के साथ है। मैंने अब तक 5 हजार टी-शर्ट बेचे हैं और अप्रैल के आखिर तक 50 हजार तक का ऑर्डर मुझे पूरा करना है।

अभियान से जुड़ी इन दो बातों को भी जानिए

नमो मर्केंडाइज से भी कमाए 6 माह में 19 करोड़

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने 4 मार्च को नमो मर्केंडाइज के नमो रथ को पार्टी के हैडक्वार्टर से रवाना किया था। इसके करीब 200 रथ देशभर में घूम रहे हैं। इस पर नमो अगेन, कीप कॉम ट्रस्ट नमो स्लोगन के साथ मास्क, बैचेज, की रिंग, टी-शर्ट, सर्दियों में हुड्‌डीज बिक रहे हैं। मैं भी चौकीदार अभियान के टी-शर्ट और कैप दोनों इस पर उपलब्ध हैं। चुनावी अभियान के अलावा यह एक व्यापार बन चुका है, जो पिछले 6 महीने में करीब 19 करोड़ रु. के पार पहुंच चुका है।

मैं भी चौकीदार अभियान के पहले दिन ही नमो मर्केंडाइज को टी-शर्ट और टोपी के लिए 4-5 लाख रु. का ऑर्डर मिला। नमो ब्रांड से चल रहा व्यापार पूरी तरह से प्रमोशनल है। इसकी शुरुआत सितंबर 2018 में हुई थी। भाजपा के युवा मोर्चा के कार्यकारिणी सदस्य और नमो मर्केंडाइज के कॉॅर्डिनेटर मनोज गोयल ने इसे शुरू किया था। पहले इसकी थीम- नमो अगेन था। मनोज गोयल का कहना है कि सितंबर 2018 से अब तक वे 9-10 करोड़ की सेल कर चुके हैं।

ट्विटर पर छाया और कॉलर ट्यून भी आई

राहुल गांधी की ओर से चौकीदार चोर है के नारे पर भाजपा पलटवार नहीं कर पा रही थी। पीएम मोदी इस अभियान से बेहद आहत थे। राहुल के आरोपों पर पीएम की प्रोफेशनल टीम ने सर्वे किया और पता लगाया कि इसका क्या असर है। इसमें फीडबैक मिला कि चौकीदार समूह में इससे नाराजगी है और लोग इससे चिढ़ रहे हैं। इस फीडबैक के बाद पीएम मोदी के ओएसडी डॉ. हिरेन जोशी ने कमान संभाली। दो दिन तक रातभर पीएमओ में काम चला और 16 मार्च को ‘मैं भी चौकीदार’ कैंपेन लाॅन्च होने तक किसी को भनक तक नहीं मिल पाई थी। मोदी के इस अभियान ने सोशल मीडिया पर पहले दिन दुनियाभर में पहले पायदान पर ट्रेंड किया तो भारत में लगातार दो दिन नंबर एक पर रहा।

इस टैगलाइन के साथ 20 लाख लोगों ने हैशटेग ट्वीट किया। 1680 करोड़ ट्विटर इंप्रेशन मिले तो 1 करोड़ से ज्यादा लोगों ने इस वीडियो को देखा और साझा किया। करीब 1 करोड़ लोगों ने नमो एप और सोशल मीडिया के माध्यम से मैं भी चौकीदार की शपथ ली। भाजपा नेताअों ने ट्विटर हैंडल में नाम से पहले चौकीदार शब्द जोड़ लिया। तीन दिन बाद ही भाजपा ने मैं भी चौकीदार की कॉलर ट्यून भी बाजार में उतार दी जो आज भाजपा नेताओं-कार्यकर्ताओं के मोबाइल की धुन बन चुकी है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


demand for chowkidaar slogan T-shirt and cap of in market



Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here