सफल दौरे के बाद स्वदेश लौटे PM मोदी, कहा- दुनिया की नजरों में बढ़ा भारत का मान

0
17


न्यूयॉर्क। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी एक सप्ताह की अमेरिकी यात्रा सम्पन्न कर स्वदेश पहुंच चुके हैं। दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर हजारों के संख्या में मौजूद भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। इस मौके पर भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, कई केंद्रीय मंत्री और दिल्ली के सभी भाजपा सांसद भी मौजूद रहें। जेपी नड्डा ने फूल देकर प्रधानमंत्री का स्वागत किया। बाद में लोगों को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि सबसे पहले मैं आप सबका तहे दिल से बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं। आप इतनी बड़ी तादाद में हवाई अड्डे पर पहुंचे, स्वागत सत्कार किया, इसके लिए मैं आपका आभार व्यक्त करता हूं। उन्होंने कहा कि आप सबके माध्यम से पूरे हिंदुस्तान के मेरे प्यारे भाई-बहनों को मैं सिर झुकाकर प्रणाम करता हूं। 130 करोड़ देशवासियों का अभिनंदन करता हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि 2014 में भी चुनाव जीतने के बाद मैं अमेरिका, यूएन की समिट में गया था और 2019 में भी गया। दुनिया की नजरों में भारत के प्रति मान-सम्मान और आदर बढ़ा है, इसका एक प्रमुख कारण 130 करोड़ हिंदुस्तानी हैं जिन्होंने अधिक मजबूती के साथ दोबारा सरकार बनाई है। इस अहमियत का एक एक विराट रूप मैंने इस बार अमेरिका में देखा है। विश्व भर में फैले हुए हमारे भारतीयों ने भी अपने-अपने देशों में उन देश के लोगों का प्यार हासिल किया है, यह भी भारत के गौरव को बढ़ाने वाला है।

HowdyModi का जिक्र करते हुए PM ने कहा कि ह्यूस्टन का वो समाहोह, उसकी विशालयता और भव्यता, प्रेजिडेंट का वहां आना, दुनिया को हमारी दोस्ती का अहसास होना, वो तो सब है ही, लेकिन इतने कम समय में अमेरिका के हमारे भारतीय भाई-बहनों ने जिस शक्ति का प्रदर्शन किया उसकी वाहवाही हर तरफ थी। भारत किस तरह दुनिया का दिल जीत सकता है, ये मैंने अपनी आंखों से देखा है, खुद अनुभव किया है। मैं आज यहां से अमेरिका में रहनेे वाले अपने भाई-बहनों को विशेष रूप से धन्यवाद देता हूं। आज दुनियाभर में भारत की स्वीकृति बढ़ी है, भारत के प्रति आदर का भाव बढ़ा है। इसका पूरा श्रेय देश और दुनियाभर में फैले मेरे भाई-बहनों को है। सर्जिकल स्ट्राइक को याद करते हुए मोदी ने कहा कि आज 28 सितंबर है, तीन साल पहले इसी तारीख को मैं पूरी रात एक पल भी सोया नहीं था। पूरी रात जागता रहा था। हर पल टेलिफोन की घंटी कब बजेगी, इसी के इंतजार में था। वो 28 सितंबर भारत के वीर जवानों के पराक्रम की एक स्वर्णिम गाथा लिखने वाला था। तीन साल पहले 28 की रात को ही मेरे देश के वीर जवानों ने सर्जिकल स्ट्राइक करके भारत की आन-बान-शान को दुनिया के सामने और अधिक ताकत के साथ प्रस्तुत किया था। मैं आज उस रात को याद करते हुए, हमारे वीर जवानों के साहस को प्रणाम करता हूं, उनका अभिनंदन करता हूं। प्रधानमंत्री ने देशवासियों को नवरात्री की भी शुभकामनाये दी।  

इससे पहले मोदी ने यात्रा सम्पन्न करते हुए ‘‘असाधारण स्वागत, गर्मजोशी और आतिथ्य के लिए’’ अमेरिकी लोगों का शुक्रिया अदा किया और कहा कि इस यात्रा के दौरान उन्होंने विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लिया, जिससे भारत को बहुत लाभ होगा। मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का भारतीय समुदाय के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए भी शुक्रिया अदा किया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘सामुदायिक सम्पर्क भारत-अमेरिका संबंधों का केन्द्र है। मैं कभी नहीं भूलूंगा कि ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प की मौजूदगी से और खास बना। यह दिखाता है कि न केवल वह (ट्रम्प) व्यक्तिगत रूप से बल्कि अमेरिका भी भारत के साथ संबंध और प्रतिभावान प्रवासियों की भूमिका की कदर करता है।’’

 
मोदी ने यहां संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र को संबोधित किया। इससे पहले उन्होंने टेक्सास में भव्य ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में भी हिस्सा लिया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने विशेष विमान के साथ मोदी की दो तस्वीरें ट्विटर पर साझा करते हुए उनकी वापसी की जानकारी दी। कुमार ने लिखा, ‘‘ मोदी कई उपलब्धियों भरे इस दौरे का समापन कर रहे हैं। ’’ उन्होंने अंतरराष्ट्रीय नेताओं के साथ उनकी “उत्कृष्ट” द्विपक्षीय बैठकों और अमेरिकी उद्योगपतियों के साथ गोलमेज सम्मेलन का भी जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ भारत के लिए अधिक निवेश आकर्षित करना और भारत में हो रहे सुधारों से दुनिया को अवगत कराना, हमारे उद्देश्यों में शामिल था। ह्यूस्टन में ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ और न्यूयॉर्क में दिग्गज अमेरिकी कारोबारियों के साथ मेरी बैठक सफल रही। विश्व भारत में अवसर तलाशने को उत्साहित है।’’
मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र को हिंदी में संबोधित करते हुए स्वास्थ्य सेवा, जलवायु परिवर्तन को कम करने में भारत की उपलब्धियों और मानवता में विश्वास रखने वाले सभी लोगों के आतंकवाद से लड़ने के लिए एकसाथ आने की आवश्यकता पर अपने विचार जाहिर किए। प्रधानमंत्री ने धरती को अधिक शांतिपूर्ण, समृद्ध और सामंजस्यपूर्ण बनाने की दिशा में काम करना जारी रखने की दिशा में भारत के रुख को भी साझा किया। उन्होंने कहा, ‘‘ जहां भी मैं गया, जिससे भी मिला, चाहे वे विश्वनेता हो, उद्योगपति या किसी भी क्षेत्र के लोग हों, भारत के प्रति सभी का रुख आशावादी है। स्वच्छता में सुधार, स्वास्थ्य सेवा और गरीबों को सशक्त बनाने में भारत के कदमों की सभी सराहना करते हैं।’’ मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर विशेष कार्यक्रम की मेजबानी कर भारत गौरवान्वित है। उन्होंने भाषण का समापन करते हुए कहा, ‘‘ मैं असाधारण स्वागत, गर्मजोशी और आतिथ्य के लिए अमेरिकी लोगों का शुक्रगुजार हूं। मैं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और अमेरिकी कांग्रेस तथा सरकार के अन्य सम्मानित सदस्यों का भी शुक्रिया अदा करना चाहूंगा।’’
 





Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here