रिपोर्ट में चेतावनी: ब्रिटेन के मदरसों में नफरत और औरतों से भेदभाव की शिक्षा दी जा रही

0
151





लंदन. ब्रिटेन में युवा इमामों को प्रशिक्षण दे रहे कुछ इस्लामिक स्कूल नफरतऔर औरतों भेदभाव को बढ़ावा दे रहे हैं। सरकार की एक गुप्त रिपोर्ट में यह चेतावनी दी गई है। रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि ब्रिटेन में फैले दर्जनों दारुल उलूम मदरसों में से कुछ से ऐसे उपदेशक निकल रहे हैं, जिनके विचार कट्टरपंथी मौलवियों की तरह हैं। ये अलग-अलग इस्लामिक देशों से ब्रिटेन आए हैं और लोगों में नफरत भरे विचार फैला सकते हैं।

  1. इन मदरसों में दर्स-ए-निजामी पाठ्यक्रम को सख्ती से पढ़ाया जाता है। यह वही पाठ्यक्रमहै, जिसे कट्टरपंथ इस्लामी शाखाओं में पढ़ाया जाता है। इनकेप्रशिक्षण स्कूलों को ही पाकिस्तान और अफगानिस्तान में तालिबान के पैदा होने कारण बताया जाता रहा है।

  2. ब्रिटेन के कई शहरों में मदरसे हैं। लंदन, मैनचेस्टर, ग्लासगो और लिसिस्टर जैसे बड़े शहरों में भी ये संचालित होते हैं। लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक, बर्मिंघम में चल रहा एकहाई स्कूल कट्टरपंथी मदरसा का एक उदाहरण है। चार साल पहले ऑफिस फॉर स्टैंडर्ड्स इन एजुकेशन, चिलड्रेंस सर्विस एंड स्किल (ऑफ्स्टेड) की एक रिपोर्ट में यह पाया गया था कि यहां संगीत और नृत्य को “शैतान का काम” बताया जाता है।

  3. ऐसे करीब चार दारुल उलूम मदरसों की ऑफ्स्टेड द्वारा पहले आलोचना की जा चुकी है। इन सभी में जांच के दौरान निरीक्षक ने पाया था कि यहां नृत्य और संगीत को ‘शैतान का काम”बताया जाता है और महिलाओं के बारे में कहा जाता है कि वे अपने पतियों को यौन संबंध बनाने से इनकार नहीं कर सकती हैं।

  4. 2011 में एक न्यूजचैनल की रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ था कि 175 छात्रों वाले एक मदरसे में क्रिश्चियन, यहूदी और हिंदुओं को लेकर नफरत की शिक्षा दी जा रही थी। 2015 में भी एक जांचकर्ता ने बताया था कि लिसेस्टर में दारुल उलूम के बच्चों को महिला और पुरूषों को लेकर रूढ़ीवादी विचारों को सिखाया जाता है। इसे किसी भी कर्मचारी ने चुनौती नहीं दी थी।

  5. कुछ ब्रिटिश जिहादी, ऐसे कट्टरपंथी शिक्षण संस्थानों केपूर्व छात्र भी रहे हैं। इनमें से एक ब्लैकबर्न दारुल उलूम का पूर्व छात्र 40 वर्षीय साजिद बदत था। साजिद ग्लूसेस्टर से अफगानिस्तान गया था और उसने वहां अलकायदा के लिए आत्मघाती हमलावर के रूप में प्रशिक्षण लिया था। उसे जूता बम बनाने के लिए ब्रिटेन भेजा गया था, लेकिन उसके मिशन को विफल कर दिया गया था।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Secret Government report warns over 48 British Islamic schools



      और पढ़ें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here