भारत में कारोबारी टैक्स घटने से अमेरिकी कॉर्पोरेट सेक्टर भी खुश, कहा- निवेशकों का भरोसा बढ़ेगा

0
21





वॉशिंगटन. भारत में कारोबारी टैक्स घटाने के फैसले की अमेरिका के कॉर्पोरेट सेक्टर ने भी तारीफ की। उनका कहना है कि इससे अर्थव्यवस्था को फायदा होगा। अंतरराष्ट्रीय कंपनियों को भारत में मैन्युफैक्चरिंग बेस बढ़ाने का अच्छा विकल्प मिलेगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कॉर्पोरेट टैक्स 30% से घटाकर 22% करने और शेयर बाजार से जुड़े फैसलों का ऐलान शुक्रवार को किया था।

  1. यूएस-इंडिया स्ट्रैटजिक एंड पार्टनरशिप फोरम (यूएसआईएसपीएफ) के अध्यक्ष मुकेश अघी ने कहा कि हम लंबे समय से कॉर्पोरेट टैक्स घटाने की मांग कर रहे थे। यह मांग पूरी करने के सरकार के फैसले से भारतीय कंपनियां अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनेंगी।

  2. अघी के मुताबिक मिनिमम अल्टरनेट टैक्स (एमएटी) घटाने, शेयर बायबैक पर टैक्स नहीं लगाने और कैपिटल गेन पर बढ़े हुए सरचार्ज लागू नहीं करने के फैसलों से अमेरिका समेत दुनियाभर के निवेशकों का भारत में भरोसा बढ़ेगा। अघी का कहना है कि भारत सरकार की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की पहल में शामिल होने के लिए यूएसआईएसपीएफ आगे रहता है।

  3. यूएसआईएसपीएफ ने भरोसा जताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बीच 24 सितंबर को न्यूयॉर्क में होने वाली मुलाकात के दौरान अमेरिका-भारत के बीच व्यापार विवाद सुलझा लिए जाएंगे। यह कोई बड़ा मुद्दा नहीं है।

  4. अघी ने कहा कि भारत को लेकर अमेरिकी कंपनियों के सेंटीमेंट अब ज्यादा परिपक्व और सुनियोजित हैं। अमेरिकी कंपनियों की भारतीय निवेश प्रक्रिया में कमी नहीं आ रही। बल्कि, वे मैन्युफैक्चरिंग के लिए चीन के अलावा बैकअप स्ट्रैटजी तलाश रहे हैं। भारत इसका विकल्प बन गया है।

  5. उन्होंने बताया कि अमेरिकी कंपनियों का भारत में मार्केट शेयर बढ़ रहा है। गूगल, फेसबुक, अमेजन, वॉट्सऐप, उबर चीन से कारोबार समेट चुकी हैं। अमेरिका भारत में बड़ा विदेशी निवेशक (एफडीआई) भी है। भारत की ओर से सुधार के सकारात्मक कदमों के चलते यह उत्साह बना रहेगा।

    DBApp

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      सिंबॉलिक इमेज।



      Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here