भारत में असेंबल आईफोन-10 के मॉडल 20 हजार रुपए तक सस्ते मिलेंगे: टिम कुक

0
10





कैलिफोर्निया.भारत में आईफोन कुछ ही महीनों बाद दुनिया के बाकी देशों से 20 हजार रु. तक सस्ता मिलेगा। लेकिन, मंगलवार को लॉन्च फोन इसमें शामिल नहीं होंगे। कीमत कम करने का यह मतलब नहीं कि आईफोन क्वालिटी से समझौता करने जा रहा है। मैं साफ करना चाहता हूं कि आईफोन एक प्रीमियम स्मार्टफोन है और इस अनुभव को बनाए रखना ही हमारा मूल सिद्धांत है।’ यह कहना है एपल के सीईओ टिम कुक का। उन्होंने आईफोन-11 की लॉन्चिंग के मौके पर दैनिक भास्कर के लिए सिद्धार्थ राजहंस और रोहिताश्व कृष्ण मिश्रा को दिए खास इंटरव्यू में ये बातें कही। टिम कुक सेबातचीत के प्रमुख अंश…

सवाल- आईफोन-11 तीन कैमरों के साथ लॉन्च हुआ है। ऐसी क्या जरूरत महसूस हुई जो तीन कैमरे लगाने पड़े?
जवाब- तीन कैमरे देकर हम डीएसएलआर कैमरे की जरूरत को खत्म करना चाहते हैं। एपल के लाखों यूजर रोज आईफोन का इस्तेमाल बेहतरीन फोटो खींचने के लिए भी कर रहे हैं। ऐसे में हम उनके कैमरा एक्सपीरियंस को और बेहतर करना चाहते हैं। ‘शॉट ऑन आईफोन’ अभियान इसी का हिस्सा है। नए फोन में पहला कैमरा वाइड, दूसरा पोट्रेट टेलीफोटो और तीसरा अल्ट्रा वाइड एंगल के लिए है। यह आईफोन फोटोग्राफी के भविष्य के लिए मिसाल साबित होगा।

सवाल-आईफोन महंगा है। भारत में इसकी बिक्री लगातार घट रही है। क्या एपल भारत के लिए सस्ता आईफोन लॉन्च करेगी? अगर हां तो कीमत क्या होगी?
जवाब- हम भारत के लिए दो आईफोन लॉन्च कर रहे हैं। इसके लिए दक्षिण भारत में फॉक्सकॉन प्लांट में आईफोन की असेंबलिंग शुरू की है। फॉक्सकॉन ही आईफोन की सबसे बड़ी मैन्युफैक्चरिंग कंपनी है। भारत में बनने वाले आईफोन बाकी देशों में मिलने वाले उसी फोन की तुलना में 20 हजार रु. तक सस्ते होंगे। हालांकि, आईफोन-11 इसका हिस्सा नहीं होगा। भारतीय ग्राहक आईफोन एक्स, एक्सएस और एक्सएस मैक्स के विभिन्न स्टोरेज वैरिएंट जल्द बाकी देशों की तुलना में सस्ता खरीद सकेंगे। हम अलग-अलग मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर कंपनियों से टाईअप करके भी कीमत का बोझ घटाने में लगे हैं। ताकि मंथली फोन बिल की कीमत पर आईफोन एक तरह से फ्री मिल सके, जो ग्राहकों के लिए एक नया अनुभव होगा।

सवाल-फोन को लेकर लगातार नए प्रयोग हो रहे हैं। आने वाले सालों में आईफोन का नया स्वरूप कैसा होगा?
जवाब- अभी हम 11 डिजाइन पर रिसर्च कर रहेहैं। टेस्ट के बाद तय करेंगे कि अगला आईफोन कैसा होगा। इसका अगला वर्जन एआई, एआर और वीआर जैसे अनुभवों के साथ मशीन लर्निंग का भी एक अलग अनुभव देगा। इसके अलावा जून 2020 में आईओएस-14 भी लॉन्च करेंगे।

सवाल-क्या एमआई, वनप्लस जैसी कंपनियों के आने से आईफोन का क्रेज घटा है? क्या बिक्री घटने की यही वजह है?
जवाब- इन चाइनीज कंपनियों का अधिकतम कारोबार भारत और चीन तक ही सीमित है। वैश्विक तौर पर देखें तो आईफोन की बिक्री लगातार बढ़ रही है। चीनी कंपनियों से मुकाबले के लिए आईफोन की कीमत और गुणवत्ता घटाने का हमारा कोई मकसद नहीं है। आईफोन एक प्रीमियम स्मार्टफोन ब्रांड है और इस अनुभव को बनाए रखना ही हमारा मूल सिद्धांत है। एपल की तिमाही बिक्री के डेटा को देखें तो पता चलेगा कि हम बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। आईफोन के शुरू होने से अब तक हम करोड़ों फोन बेच चुके हैं। यह हमारे लिए एक बड़ी उपलब्धि है।

सवाल-भारत ने सिंगल रिटेल एफडीआई नियमों में ढील दी है। आप भारत में कितना निवेश करेंगे? किस शहर से शुरुआत करेंगे?
जवाब- हम भारत में विस्तार करेंगे। भारत में अभी 1450 करोड़ रु. निवेश करने की योजना है। बेंगलुरू और हैदराबाद में सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट ऑफिसों का विस्तार कर रहे हैं। गुड़गांव और मुंबई में एक्सक्लूसिव ओरिजिनल स्टोर खोलेंगे। ऑनलाइन सेल के लिए अभी जियो की मदद ले रहे हैं।

एपल के डेलवपर्स में बहुत ज्यादा भारतीय
एपल के सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के वाइस प्रेसिडेंट क्रेग फेडेरिगी के मुताबिक, अभी एपल में जो डेवलपर्स काम कर रहे हैं उनमें बड़ा हिस्सा भारतीयों का है। हमें अपने भारतीय कर्मचारियों पर गर्व है। बेंगलुरु में हमने आईओएस डेवलपमेंट की ट्रेनिंग के लिए अपनी तरह का पहला एप एक्सीलेरेटर सेंटर खोला है। वहां 50 हजार डेवलपर्स को ट्रेनिंग दी जा चुकी है। कंपनी की सोशल इनिशिएटिव वाइस प्रेसिडेंट लीसा जेक्शन का कहना है कि कर्मचारियों को एक हेल्दी माहौल देने के लिए एपल अपने ऑफिसों को रिन्यूवल एनर्जी से लैस कर रहा है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Bhaskar special conversation with Apple CEO Tim Cook



Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here