बिहार में बाढ़ की स्थिति को लेकर कांग्रेस ने साधा नीतीश सरकार पर निशाना

0
12


नयी दिल्ली। कांग्रेस ने पटना एवं बिहार के कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण पैदा हुई बाढ़ की स्थिति पर चिंता जताई और समयपूर्व तैयारियां नहीं होने का आरोप लगाते हुए राज्य की भाजपा-जद (यू) सरकार पर निशाना साधा।पार्टी के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने यह भी कहा कि राज्य एवं केंद्र सरकार को कम से कम इंसानियत की खातिर राहत एवं बचाव कार्य तेज करना चाहिए। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, बिहार खासकर पटना की जो हालत हुई है उसे देखने के बाद इंसानियत वाले किसी भी व्यक्ति को नींद नहीं आएगी। सोनिया और राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं से लोगों की मदद करने की अपील की। उन्होंने एक भी शब्द में राजनीति नहीं की।’’

इसे भी पढ़ें: बिहार बाढ़: बचाव और राहत कार्यों में जुटी NDRF की टीम, वायु सेना के हेलीकॉप्टर तैनात

गोहिल ने जद(यू) विधायक नरेंद्र कुमार सिंह का एक वीडियो भी जारी किया जिसमें वह अपनी ही सरकार पर सवाल खड़े करते देखे जा रहे हैं। कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘जद(यू) के विधायक नरेंद्र सिंह इस तरह के बयान दे रहे हैं जिससे साबित होता है कि बहुत बुरे हालात हैं। उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी तीन-चार दिन से अपने घर में फंसे रहते हैं तो समझ सकते हैं कि क्या हालात हैं?’’ उन्होंने सवाल किया कि क्या हम कुछ दिनों के लिए खाना और पानी नहीं पहुंचा सकते हैं क्या?
गोहिल ने दावा किया, ‘‘नमामि गंगे परियोजना के तहत केंद्र से पैसे लिए गए और फिर भ्रष्टाचार हुआ। पटना शहर में नाले का पानी नदी में पहुंचाने के लिए जो पाइप लगाए गए वो सही ढंग से नहीं लगाए गए। भाजपा के बहुत बड़े नेता ने अपने घर के बाहर पूरा अतिक्रमण कर लिया है। चहेते लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है जिससे इस तरह की स्थिति पैदा हुई है।’’
उन्होंने कहा, ‘‘बिना तालमेल वाली भाजपा-जद (यू) सरकार और केंद्र सरकार से आग्रह है कि कम से कम वे अपने विधायक की बात सुनें और राहत एवं बचाव कार्य तेज करें। इंसानियत की खातिर कदम उठाएं।’’ केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे द्वारा बाढ़ की स्थिति को लेकर ‘हथिया नक्षत्र’ को जिम्मेदार ठहराने पर गोहिल ने कहा, ‘‘पाप ये करते हैं और भगवान एवं हथिया नक्षत्र पर ठीकरा फोड़ते हैं। अश्विनी जी विज्ञान और मौसम विज्ञान पर विश्वास नहीं करें, लेकिन यह बताएं कि मोटर पंप पर क्यों ध्यान नहीं दिया गया?’’
 
 



Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here