पुलिस ने चुनाव के कारण वारदात छुपाई, 12 दिन बाद सिर्फ 3 आरोपियों को पकड़ पाई

0
157





जयपुर/अलवर. अलवर के थानागाजी इलाके में पति को बंधक बनाकर पत्नी से गैंगरेप मामले को चुनाव के कारण छिपाने वालीपुलिस 12 दिन में तीन आरोपियों को ही गिरफ्तार कर सकी है। दो आरोपी अब भी पुलिस गिरफ्त से दूर हैं। घटना के बाद से राजस्थान भर मेंलगातार विरोध-प्रदर्शन का दौर जारी है। मंगलवार को पुलिस ने दो आरोपीइंद्रराज और मुकेश को गिरफ्तार कर लिया था। भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर भी बुधवार कोथानागाजी पहुंचे।

पुलिस के मुताबिक, वायरल वीडियो के आधार पर कार्रवाई की जा रही है। पुलिस ने बुधवार सुबह तीसरे आरोपी अशोक को गिरफ्तार किया है।मंगलवार को इंद्रराज और घटना का वीडियो बनाने वालामुकेश को गिरफ्तार कर लिया है।पुलिस छोटेलाल और हंसराज की तलाश में छापेमारी कर रही है।

थानागाजी के एसओ, एसआई और तीन सिपाही सस्पेंड

इससे पहले मंगलवार को डीजीपी नेअलवर के एसपी राजीव पचार को यहां से हटाकरकार्यमुक्त कर दिया था। हालांकि, कार्मिक विभाग ने इसके पीछे प्रशासनिक कारण बताए हैं। मामले में लापरवाही बरतने काे लेकर थानागाजी थाने के प्रभारी सरदार सिंह को सस्पेंड कर दियागया।जबकि एएसआई रूपनारायण, सिपाही रामरतन, महेश कुमार औरराजेंद्र काे लाइन हाजिर किया गया है। थानागाजी थाने में 29 पुलिसकर्मियों का स्टाफ है।

क्या है मामला

घटना26 अप्रैल कीहै।पति औरपत्नी गांव लालवाड़ी से तालवृक्ष जा रहे थे। थानागाजी-अलवर बाईपास रोड पर दुहार चौगान वाले रास्ते में 5 युवकों ने उन्हें रोका और पति काे बंधक बनाकर मारपीट की।पत्नी से गैंगरेप कर वीडियाे बना लिया।प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आरोपियों ने पीड़ित दंपती से वीडियो वायरल करने की धमकी देकर पैसे भी वसूल किए। आरोपियों ने फिर पैसों की डिमांड की तो परेशान दंपती 30 अप्रैल काे अलवर एसपी के पास पहुंचे थे। इसके बाद थानागाजी पुलिस थाने ने 2 मई काे एफआईआरदर्ज की। वीडियो वायरल होने के बादघटना 6 मई को सार्वजनिक हुई।

आरोपी ट्रक ड्राइवर इंद्रराज ससुराल आया था

आईजी सेंगाथिर ने बताया कि मंगलवार को पकड़ा गयाआरोपी इन्द्रराज ट्रक ड्राइवर है। वह 26 अप्रैल को थानागाजी स्थित ससुराल आया था। यहां साथी छोटेलाल, अशोक, महेश औरहंसराज से मिला,तभी उसकी नजर बाइक से जा रहे दंपती पर पड़ी। उसके बाद उन्होंने अन्य साथियों को भी बुला लिया और दंपती का पीछा करना शुरू कर दिया। पांचों ने मिलकर दंपती को रोका और वारदात को अंजाम दिया। आरोपियों में दो नारायणपुर, दो थानागाजी औरएक बानसूर का रहने वाला है।

गहलोत ने कहा- घटना दुर्भाग्यपूर्ण, महिला सुरक्षा के लिए सरकार प्रतिबद्ध
मुख्यमंत्री अशोक गहलोतने घटनाकाेदुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंनेकहा कि पुलिस द्वारा किसी भी स्तर पर लापरवाही या अनियमितता पाए जाने पर सख्त कार्यवाही होगी। महिला सुरक्षा के प्रति सरकार पूर्णतया प्रतिबद्ध है।

वसुंधरा ने कहा- दुष्कर्म की यह घटना राजस्थान के लिए बेहद शर्मनाक
पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने भास्कर की खबर को रिट्वीट करते हुए लिखा- सामूहिक दुष्कर्म की यह घटना प्रदेश के लिए बेहद शर्मनाक है। ऐसे जघन्य अपराध कांग्रेस सरकार के महिला औरबेटियों को सुरक्षित माहौल देने के दावों की पोल खोल रहे हैं।

दलित वोट के लिए गहलोत ने भुलाया राजधर्म

बेनीवाल ने कहा कि बड़े नेताओं और सीएमओ के इशारे पर डीजीपी ने मामले को दबाया था।बेनीवाल ने कहा कितत्कालप्रभाव से डीजीपी को हटाया जाना चाहिए ताकि एक संदेश जाए। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो आन्दोलन किया जाएगा और मामले में कौन दोषी है और किसके इशारे पर मामले को दबाने का प्रयास हुआ इसके लिए सीबीआई जांच होनी चाहिए।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


घटना को अंजाम देने वाले पांचों युवक की पहचान वायरल वीडियो के आधार पर की गई है।- फाइल



Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here