अगले साल लॉन्च होगा 5जी, टेलीकॉम सेक्टर में पांच साल में एक करोड़ से ज्यादा नौकरियां आएंगी: रॉय

0
38





नई दिल्ली.टेलीकॉम सेक्टर में भारत 120 करोड़ से ज्यादा यूजर के साथ दुनिया में दूसरे स्थान पर है। 5जी टेक्नोलॉजी अगले साल तक लाॅन्च होने की संभावना है। केंद्र सरकार ने इस सेक्टर में 2022 तक 7 लाख करोड़ रुपए के निवेश का लक्ष्य रखा है। अगले पांच साल में इस सेक्टर में एक करोड़ रोजगार के मौके बनेंगे। जॉब व कॅरियर ग्रोथ को लेकर दैनिक भास्कर ने वोडाफोन-आइडिया के चीफ एचआर प्रमुख सुवामोय रॉय चौधरी से बातचीत की।

सवाल: मौजूदा समय में युवाओं के लिए टेलीकॉम सेक्टर में किस प्रकार के रोजगार उपलब्ध हैं?
जवाब:
भारत में उपग्रहों, इंटरनेट और मोबाइल टेलीफोनी के क्षेत्र में हुए विकास के कारण टेलीकाॅम इंजीनियरों की काफी मांग है। शुरुआत में ट्रांसमिशन स्टेशन इंजीनियर, ड्राइव टेस्ट इंजीनियर व मैंटनेंस इंजीनियर जैसे पदों पर काम मिलता है। सर्किट डिजाइनर से लेकर स्ट्रैटिजिक मास डेवलपर बन सकते हैं। नेटवर्क इंजीनियर, प्रोडक्ट डिजाइनर, डाटाबेस डेवलपर इसके कुछ प्रचलित पेशे हैं। मशीन-टू-मशीन कम्युनिकेशन, टेलीकॉम मैन्युफैक्चरिंग, इन्फ्रास्ट्रक्चर तथा सर्विस में भी रोजगार के अच्छे अवसर हैं। प्रबंध कौशल में माहिर युवाओं को बेस स्टेशन सेवाओं से लेकर नेटवर्क सिक्युरिटी, फील्ड मैंटेनेंस, ट्रांसमिशन और ऑप्टिकल फाइबर ब्राॅडबैंड की सेवाएं स्थापित करने से जुड़े मौके मिलते हैं।

सवाल: क्या आप बता सकते हैं कि टेलीकॉम सेक्टर में विभिन्न पदों पर क्या योग्यता चाहिए?
जवाब:
हर काम की अलग-अलग योग्यता है। फिर भी कुछ स्किल हर कर्मचारी में होना चाहिए। डिजिटल सेवी, बोल्ड आउटलुक, गतिशीलता, तेजी से बदलते परिवेश में अपने आपको ढालने और नाकामायाबी से निडर होने की जरूरत है।

सवाल: टेलीकॉम सेक्टर में जॉब पाने के लिए मौजूदा समय में किस तरह की स्किल की जरुरत होती है?
जवाब: 5जी, एम2एम और सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) की वजह से दूरसंचार व्यवसाय तेजी से बदल रहा है। इसलिए हम ऐसे कौशल की तलाश कर रहे हैं जो इस परिवर्तन को सक्षम और सुविधाजनक बना सके। हम एआई, मशीन लर्निंग, बिग डेटा, आईओटी, एआर / वीआर, डिजिटल आदि को भी देख रहे हैं। हमारे पास कई प्रकार के काम हैं जैसे नेटवर्क, आईटी, उत्पाद डिजाइन, विश्लेषण, आईओटी, ग्राहक सेवा, बिक्री, खुदरा, मार्केटिंग, ऑपरेशंस, फाइनेंस व अकाउंट, लीगल, एचआर और ब्रांडिंग आदि।

सवाल: नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए किस तरह अपनी तैयारी करना चाहिए?
जवाब:
जिस नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं उसके लायक अपनी क्षमताओं को आंकना चाहिए। संबंधित कंपनी पर रिसर्च करना चाहिए। यह देखना चाहिए कि वे कंपनी में कैसे और क्यों फिट होंगे। साक्षात्कार के दौरान आत्मविश्वास से भरे हुआ होना चाहिए। इससे साक्षात्कार के सवालों का जवाब देने में मदद मिलती है।

सवाल: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस या बिग डेटा का रिक्रूटमेंट प्रक्रिया पर कितना असर पड़ रहा है?
जवाब:
मैं एआई, मशीन लर्निंग, बिग डेटा को मानवता को मिले आशीर्वाद के रूप में देखूंगा। मानव-संचार, सहयोग, रचनात्मकता और समस्या को हल करने में क्या अच्छा है जैसे कई बातों को परखने में आसानी हुई है। इसलिए मैं इन तकनीकों को आशाजनक भविष्य के रूप में देखता हूं। हालांकि हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि मनुष्य भी अपनी क्षमताओं में वृद्धि करे।

सवाल: आने वाले समय में इस सेक्टर में किस तरह की नौकरियों ज्यादा पैदा होंगी?
जवाब:
अब जो नौकरियां सृजित हो रही हैं वे विशेष डोमेन वाले स्किल की हैं। अब एआई, मशीन लर्निंग, आईओटी को जानना-समझना जरूरी है। आने वाले वक्त में एक तकनीक से नहीं बल्कि कई तकनीकों को मिश्रण करने वाले कौशल को जानने-समझने वालों के लिए ज्यादा अवसर होंगे।

सवाल: क्या हाल के वर्षों में भर्ती प्रक्रिया बदली है?
जवाब:
उम्मीदवार के अनुभव को परखने के लिए कंपनियां नए आईटी टूल्स अपना रही हैं। विशेष रूप से बड़े पैमाने पर भर्ती में हम उन उपकरणों का उपयोग कर रहे हैं जो हमें ज्यादा फोकस्ड कर्मचारियों को ढूढ़ने में मदद करते हैं। हम यह कोशिश करते हैं कि उम्मीदवारों के चयन में कम वक्त और संसाधन लगे।

अगले पांच सालों में भारत में 50 करोड़ नए इंटरनेट यूजर बनेंगे

  • नेशनल डिजिटल कम्युनिकेशन पॉलिसी में वर्ष 2022 तक 40 लाख नौकरियों का लक्ष्य रखा गया है।
  • भारत में 60 करोड़ से ज्यादा इंटरनेट यूजर हैं। अगले पांच साल में इसमें 50 करोड़ यूजर की और वृद्धि होगी।
  • टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल (टीएसएससी) के मुताबिक सेक्टर में टेलीकॉम सेक्टर में 40 लाख लोग काम कर रहे हैं। पांच वर्ष बाद यह संख्या 1.43 करोड़ पर पहुंचने की उम्मीद है।
  • एसोचैम-केपीएमजी के मुताबिक साल 2021 तक 8.7 लाख नौकरियां पैदा होंगी।
  • भारतीय टेलीकॉम सेक्टर हर साल करीब 3000 से 4000 करोड़ डॉलर का रेवेन्यू अर्जित करता है।

इन सेगमेंट में रोजगार के अवसर हैं

शुरुआत में ट्रांसमिशन स्टेशन इंजीनियर, ड्राइव टेस्ट इंजीनियर व मेंटनेंस इंजीनियर जैसे पदों पर काम मिलता है। सर्किट डिजाइनर से लेकर स्ट्रेटेजिक मास डेवलपर बन सकते हैं। नेटवर्क इंजीनियर, प्रोडक्ट डिजाइनर, डाटाबेस डेवलपर प्रचलित पेशे हैं। मशीन-टू-मशीन कम्युनिकेशन, टेलीकॉम मैन्युफैक्चरिंग, इन्फ्रास्ट्रक्चर तथा सर्विस में भी रोजगार के अच्छे अवसर हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Bhaskar interview with Vodafone-Idea HR chief suvamoy roy choudhury



Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here